Britannia Industries: कोलकाता फैक्ट्री में VRS के बाद उत्पादन के भविष्य पर संकट के बादल ?

Share with the world

सात दशक पुरानी बंगाल की Britannia Industries के उत्पादन के फ्यूचर पर भी सवाल उठ गए हैं, क्योंकि प्रबंधन ने कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स के लिए VRS पर डिस्कशन शुरू कर दिया है। { Kolkata } कोलकाता के तरातला { Taratala } में ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज द्वारा प्रदान की गई VRS योजना को लगभग 120 स्थायी कर्मचारियों ने स्वीकार की है।

Britannia Industries:
Britannia Industries:

Britannia Industries के प्रबंधन ने कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स के लिए भी VRS पर डिस्कशन शुरू कर दी है, जिससे बंगाल में सात दशक पुरानी इस फैक्ट्री के प्रोडक्शन के फ्यूचर पर सवाल उठ गए हैं। कोलकाता के तरातला में ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज द्वारा दी गई VRS योजना को लगभग 120 स्थायी वर्कर्स ने एक्सेप्ट कर लिया है। ब्रिटानिया के एक स्टॉक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा गया है, “कंपनी द्वारा पश्चिम बंगाल के कोलकाता स्थित तरातला के फैक्ट्री में वर्कर्स को दी गई स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना को फैक्ट्री के सभी स्थायी वर्कर्स ने एक्सेप्ट कर लिया है।

सूत्रों के अनुसार, कंपनी ने फैक्ट्री में तीन यूनियनों को बायपास करते हुए वर्कर्स के साथ डायरेक्टली VRS पर समझौता किया है, सेवा अवधि के आधार पर स्थायी वर्कर्स को ₹13 लाख से ₹22 लाख के बीच पैकेज के साथ-साथ ग्रेच्युटी और PF भी दिया गया है। प्रबंधन ने कर्मचारियों को बताया कि फैक्ट्री पुरानी हो चुकी है। कंपनी को इस यूनिट से प्रोडक्शन जारी रखना फाइनेंशियली फायदेमंद नहीं लग रहा था।

Britannia Industries : इस यूनिट से उत्पादन जारी रखना कंपनी के लिए आर्थिक लाभदायक नहीं था।

हालांकि फैक्ट्री बंद नहीं की गई है, लेकिन सूत्रों अनुसार Britannia Industries प्रबंधन प्लॉट का एक हिस्सा SMPT (पूर्व में कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट) को वापस करने पर विचार कर रहा है, जो इस प्लॉट का मालिक है। एफएमसीजी फर्म का 11 एकड़ का प्लॉट, जिसे 2018 में रिन्यू किया गया था, का वर्तमान पट्टा 2048 तक है, कंपनी ने पिछले कुछ वर्षों में कोलकाता पोर्ट अथॉरिटी से रेंट डिस्प्यूट्स का सामना कर रही है ।

Britannia Industries का इतिहास ?

ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज की शुरुआत कोलकाता में हुई थी। कंपनी की स्थापना 1892 में ब्रिटिश बिजनेसमेन के एक ग्रुप द्वारा ₹295 के इन्वेस्टमेंट के साथ की गई थी। 1993 में,बॉम्बे डाइंग के वस्त्र उद्योगपति नुस्ली वाडिया ने फ्रेंच फूड जाइंट डैनोन की मदद से ब्रिटानिया के तब के चेयरमैन राजन पिल्लई से कंपनी का कंट्रोल अपने हाथ में ले लिया। 2009 में, वाडिया ग्रुप ने ग्रुप डैनोन द्वारा स्वामित्व वाले 25 प्रतिशत हिस्से का अधिग्रहण करने के बाद कंपनी में सबसे बड़ा शेयरहोल्डर बन गया।

Also Read :
Quant Mutual Fund पर SEBI का शिकंजा: फ्रंट-रनिंग घोटाले की शुरू हुई जांच ?

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *